रस | रस की परिभाषा, प्रकार, अंग व भाव ,अनुभाव | full hindi vyakran

रस की परिभाषा – रस का शाब्दिक अर्थ है निचोड़, काव्य में जो आनन्द आता है वह ही काव्य का रस है । काव्य में आने वाला आनन्द अर्थात् रस लौकिक न होकर अलौकिक होता है । उसे काव्य की आत्मा कहा गया है । संस्कृत में कहा गया है कि ” रसात्मकम् वाक्यम् काव्यम् “ अर्थात् रसयुक्त वाक्य ही…

Continue Readingरस | रस की परिभाषा, प्रकार, अंग व भाव ,अनुभाव | full hindi vyakran

जीवन परिचय | आत्मकथा | जीवनी क्या है ?

जीवन परिचय किसी एक व्यक्ति या लोगों के समूह की जीवन कहानी बताने वाली किताब है। आत्मकथाएँ आमतौर पर उन लेखकों द्वारा लिखी जाती हैं जिन्होंने उन लोगों पर शोध और साक्षात्कार किया है जो उस व्यक्ति के बारे में जानते हैं जिस पर चर्चा की जा रही थी। जबकि प्रसिद्ध लोगों के बारे में लेखन शायद हजारों वर्षों से…

Continue Readingजीवन परिचय | आत्मकथा | जीवनी क्या है ?

निबंध | निबंध क्या है | प्रकार व परिभाषा

निबंध | निबंध क्या है | प्रकार व परिभाषा निबंध की परिभाषा – निबन्ध में लेखक का व्यक्तित्व झलकता है । किसी विषय – वस्तु से सम्बन्धित विचारों का ऐसा सुगठित एवं क्रमबद्ध प्रस्तुतिकरण , जिससे उस विषय – वस्तु की विस्तृत या संक्षिप्त किन्तु सारगर्भित जानकारी मिलती है , ‘ निबन्ध ‘ कहलाता है ।                                               निबन्ध की परिभाषा देते…

Continue Readingनिबंध | निबंध क्या है | प्रकार व परिभाषा